क्षण भर को क्यों प्यार किया था?

अर्द्ध रात्रि में सहसा उठकर,
पलक संपुटों में मदिरा भर,
तुमने क्यों मेरे चरणों में अपना तन-मन वार दिया था?
क्षण भर को क्यों प्यार किया था?

‘यह अधिकार कहाँ से लाया!’
और न कुछ मैं कहने पाया –
मेरे अधरों पर निज अधरों का तुमने रख भार दिया था!
क्षण भर को क्यों प्यार किया था?

वह क्षण अमर हुआ जीवन में,
आज राग जो उठता मन में –
यह प्रतिध्वनि उसकी जो उर में तुमने भर उद्गार दिया था!
क्षण भर को क्यों प्यार किया था?

Other Information

Collection: Nisha-Nimantran (Published: 1938)

50 Replies to “क्षण भर को क्यों प्यार किया था?”

  1. maharaj,
    hindi likhne, likh sakne sambandhi mera ek sawal tha. hindi ke istemal ke baare mein. ek tareeka toh unicode ka istemal kar ke likhai post karne wala hai (jo main jaanta nahin), doosra main aapse ye jaan-na chahta tha, ki main apne comp pe jis devnagri font (krutidev 10, 16 etc) ka abhyast hoon, aur jiski likhai mein meri rawani hai, uska main saaf-suthre tareeke se wordpress ke blob mein istemaal kar sakta hoon ya nahi?…
    meri uljhan door karne me zara sa waqt nikaliyega toh meharbani hogi…
    thanx and regards.
    nandomadho
    indiaroad@gmail.com

  2. “यह अधिकार कहाँ से लाया!’
    और न कुछ मैं कहने पाया –
    मेरे अधरों पर निज अधरों का तुमने रख भार दिया था!
    क्षण भर को क्यों प्यार किया था?”

    I link these lines.
    Thanks for nice posting

  3. बहुत सुंदर,

    इतनी अच्छी कविताएं हमारे साथ बाँटने के लिए धन्यवाद.

    सादर,

    अभिनव सागर

  4. ah…kya kavita hai…mai nahi samjhta isse acchi abhivakti ho sakti hai….itne saral sabdon me.

    Bachchan sahab ko shat shat Pranam!!!!

    Saurabh

  5. kshan bhar ko kyu pyaar kiya tha ?
    hmmm…well nice line…
    but how can someone love for sometime…
    i mean d line could b…
    kshan bhar ko kyu saath diya tha ?

    watever…
    bacchan ji is a great poet..no doubt…
    n ofcourse each n every line has got a deep meaning…

  6. “path ki pehchaan”… I believe it is a longer poem than what has been posted here; I would love to read the full text please

  7. baut badiy mujy baut pasand he is tope ki kabita ,,, is kabita me ek baat ki kami he ki afsos kis baat ka he…. ki larki cor kar cali gai he ya koi larka babafa he ,,,, jis ne bhi lika he usy jarur piyar hua hoga thabhi to …. baut achi he ………. ye kabita unhi ko ill ho sacti he jisy payr he ………. or bo hie samjsacta he …….

  8. यह अधिकार कहाँ से लाया!’
    और न कुछ मैं कहने पाया –
    मेरे अधरों पर निज अधरों का तुमने रख भार दिया था!
    क्षण भर को क्यों प्यार किया था?”

  9. I really like Dr. Harivansh Rai Bachchan’s Poems . I truly find him as one of the ultimate and the finest poet up till now. His contribution in poems means a lot and is really commendable!
    He is one of my favorites. We all must respect and love his talent and contributions.

    Jagriti

    ♫….. Ĵ_Â_Ğ_Ŕ_Ï_Ť_Ĩ …..☼♣♥♣☺♫

  10. i realy like reading mr. harishchandra’s poems n i’m a big fan of his………………….
    this is one of my favorite poems ………..
    he was a gr8 man………………..he was really a legend in the d field of poetry…………………hats of 2 him
    i like it becoz it is really soft n heart touchin……………

  11. “पढ कर तेरे काव्य पंक्तिया , मिटते सबके सारे गम…, हर शब्द कुछ कहती है मुझसे, हर पंक्ति तेरे तीर सम, जल के चंद बूंदो से , बुझती नही हॅ प्यास अगन की, अनंत,अविनाशी काव्य जगत, सदा अमिट होवे बच्चन कीँ…” प्रिय बच्चन जी की अनेको कविताओ का पठन मैने किया हैँ । ” मधुशाला” ने तो मंत्रमुग्ध ही कर दिया है ।आपकी हर पंक्तियां प्र

  12. बहुत दर्द है इन पंक्तियों मे।इसे तो केवल एक सच्चाप्रेमी ही समझ सकता है।हरि ओम नारायण।

  13. दोस्ती से आज प्यार शरमाया है
    तेरी दोस्ती ने हमे जीना सिखाया है
    क्या माँगे खुदा से हम
    वो तो खुद आज मेरे दर पर
    तेरी दोस्ती माँगने आया है.

  14. Mai bachchan ji ka vidyarthi jiwan se hi prashanshak raha.unki anek kavitao ki tarah ye kavita bhi bahut achchhi lagi.

  15. KYA BATAU BACHANJI AP TO RAHE NAE……………HAM TO APKO EVEN AMITABHJI KI VAJAH SE JANTE HE………………KYA HAMARE DIK KO APNE BAYAN KAR DIYA………………I RESPECT UR WRITING………….. KYA DIL SE LIKHA HE

  16. अदभुत!! निशा निमंत्रण बेहद पसंद है मुझे….
    बच्चन जी की काव्य कल्पना को शत शत नमन..

    ….प्रतिमा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *