गुलाबी चूड़ियाँ

प्राइवेट बस का ड्राइवर है तो क्या हुआ,
सात साल की बच्ची का पिता तो है!
सामने गियर से उपर
हुक से लटका रक्खी हैं
काँच की चार चूड़ियाँ गुलाबी
बस की रफ़्तार के मुताबिक
हिलती रहती हैं…
झुककर मैंने पूछ लिया
खा गया मानो झटका
अधेड़ उम्र का मुच्छड़ रोबीला चेहरा
आहिस्ते से बोला: हाँ सा’ब
लाख कहता हूँ नहीं मानती मुनिया
टाँगे हुए है कई दिनों से
अपनी अमानत
यहाँ अब्बा की नज़रों के सामने
मैं भी सोचता हूँ
क्या बिगाड़ती हैं चूड़ियाँ
किस ज़ुर्म पे हटा दूँ इनको यहाँ से?
और ड्राइवर ने एक नज़र मुझे देखा
और मैंने एक नज़र उसे देखा
छलक रहा था दूधिया वात्सल्य बड़ी-बड़ी आँखों में
तरलता हावी थी सीधे-साधे प्रश्न पर
और अब वे निगाहें फिर से हो गईं सड़क की ओर
और मैंने झुककर कहा –
हाँ भाई, मैं भी पिता हूँ
वो तो बस यूँ ही पूछ लिया आपसे
वर्ना किसे नहीं भाएँगी?
नन्हीं कलाइयों की गुलाबी चूड़ियाँ!

38 Replies to “गुलाबी चूड़ियाँ”

  1. i am really impressed from this imaging poem that i can’t explain my views.
    God must give one lovely daughter to each couple…………………..?

  2. ye kavita maine 6th ya 7th me padhi thi bahoot achi lagi, shayad fir doobara koi itni payari kavita likhe. aaj kai saalo baad padhi to dil khush ho gaya, is baar jayada dil khush hua kyon ki aaj mere paas bhi ek beti hai.

  3. Mai bhut dino se ye kavita khoj raha tha kio ki mai baba nagarjun jee ke kavaya rachana ko apne dil se pasand karta hu kio mai hindi honours ka student hu mai ne bhi kuch poem rachana ki hai, nai soch ki rah, adhura sapna,bidhroh raat, kala kaphan, jinda lash, kalyug, bharastachar,paise ka kanoon, dhalate sham.premsi,

  4. Hriday ki sunder bhavnaye
    shabdo ka sundertar sparsh aur
    tab bani ye sundertam kavita……
    Nagarjun sundertam ke pratinidhi kavi hai!

  5. jabse ye kavita maine suna mere dil me aisi bas gayi hai wo baat ,koi bhi admi chahe wo kitna bhi kathor ho uske sarir me bhi dil hai jo use hamesa gyat karwata rahta hai saneh ka,last me kabi kisi ko kathor mat samajhye uske andar bhi pyar hai…sat sat parnam mera kavi nagarjun ji ko.

  6. आज फिर वो सुहाने दिन याद आ गए
    जब पहली बार इस कविता को सुना था
    किसी ने सच ही लिखा है
    ये दौलत भी ले लो ये शौहरत भी ले लो
    पर लौटा दो मुझको वो बचपन तुम मेरा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *